logo   

वि दे ह 

प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका

मानुषीमिह संस्कृताम्

ISSN 2229-547X VIDEHA

विदेह नूतन अंक

 विदेह

मैथिली साहित्य आन्दोलन

Home ]

 

India Flag Nepal Flag

(c)२००४-२०२१।सर्वाधिकार लेखकाधीन आ जतए लेखकक नाम नहि अछि ततए सँ पादकाधीन।

 

वि  दे  ह विदेह Videha বিদেহ http://www।videha।co।in  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका Videha Ist Maithili Fortnightly e Magazine  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका  नव अंक देखबाक लेल पृष्ठ सभकेँ रिफ्रेश कए देखू।

 

सुभाष कुमार कामत

३ टा बीहनि कथा 

चॉकलेट 

 

- आई दू कप मीठगर चाह बनाऊ

- अहाँके तऽ डागदर मीठ से परहेज़ करै लेल कहनै छथि 

- तें न आई टा कहि छी

- किया आई किछ विशेष अछि की

- रेडियो पर नै सुनलिए जे "आई चॉकलेट डे छियै" ।आब दाँत त अछि नै ।कम सँ कम संग बैठ मीठगर चाहो तऽ पीबी। 

नून

- हे यै ! काल्हि सँ तिमन मे नून कनि कमे डालब

- किया "तिमन बेसी नूनगर भऽ गेल की'

- तिमन तँ निमन्न अछि

- तखन 'डागदर कहलैथ कि नून कम खाई लऽ'

- नै यै

- तखन किया कहै छिए "नून" कम

- हम अहाँ तऽ किसान छी। अपना सभकेँ दर्दक केय बूझत। "अखन बाजार मे हमर अहाँक फसल सँ बेसी महंग नून बिक रहल छै" । 

ऑनलाईन 

 

- हे ये! कनिया 

- हँ माँ, कि कहै छथिन 

- हमर पोती 'नव कनिया बैनि दोसर घर जा रहल अछि' ओतह केना रहत, कखैन खैति कखैन न

- से तऽ माँ ठीके कहै छथिन 

- एकटा काज करूँ न, मकई के लावा, मुरही, सतूआ बुच्चीक अलग सँ द दियो 

- मैया अहूँ न। आब ओ समय नै रहल जे आहाँ सोचे छिए। जे मोन करि से खाऊ, आब सब किछु बनल - बनैल आॅनलाईन भेटैंत अछि।

 

-सुभाष कुमार कामत

घोघरडीहा, मधुबनी 

8271282752

 

अपन मंतव्य editorial।staff।videha@gmail।com पर पठाउ।