logo   

वि दे ह 

प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका

मानुषीमिह संस्कृताम्

ISSN 2229-547X VIDEHA

विदेह नूतन अंक  

 विदेह

मैथिली साहित्य आन्दोलन

Home ]

 

India Flag Nepal Flag

(c)२००४-२०२१.सर्वाधिकार लेखकाधीन आ जतए लेखकक नाम नहि अछि ततए संपादकाधीन।

 

वि  दे  ह विदेह Videha বিদেহ http://www.videha.co.in  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका Videha Ist Maithili Fortnightly e Magazine  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका  नव अंक देखबाक लेल पृष्ठ सभकेँ रिफ्रेश कए देखू।

 

संतोष कुमार राय 'बटोही' केर (डायरी) 'लव यू टू'

07.04. 2008

                   लाठी बीचे कपाड़

आइ लल्ली केँ पढ़ा कs हम निकलि गेलहुँ अछि। गलती हमर इ छल जे हम हुनका प्रति मोहित भs कs 'किस' कs लेललियैन्ह। इ गुनाह महग पड़ल। लल्ली अपन माए केँ इ गप्प कहि देलथिन्ह। बस आब की भेलैह - बेल्ट सँ पीटल गेलहुँ। हुनकर माए करौछ सँ पजरा मे मारलीहि। इ छियैय परेमक फल। परेमक नशा उतरि गेल। परेम मे धोखा मिलल। 

लल्ली अइ 'किस' केँ हवस केँ संज्ञा देलथिन्ह। ओ लव लेटर आओर ओही मे लिखल 'लैला - मजनू' केँ मतलब हम आइ धरि नहि बुझलियै। मारि खेलाक बाद हम अइ लव स्टोरी केँ अंत बुझि रहल छी।

27.09.2008

                  अमृता चुलबुली

संजय , अमृता, खुशबू सक्सेना आओर हम गालिब पार्क जामिया मे बैठल छी। विषय किछु नहि छै। 'टाइम पास' कs रहल छी। दिल हमर टुटि गेल अछि। हम पहिल परेम केँ भुलि नहि सकैत छियैय, परञ्च एकरा यादो रखनै उचित नहि लगैत अछि। एक सप्ताह सँ नीक जँका भोजन नहि केलहुँ अछि। 

परेम मे धोखा खायल इंसान छी हम। आब हमर हिम्मत नहि अछि जे किनको सँ परेम करबैन्ह। इ छथि हमर क्लासमेट अमृता । हिनका दिस झुकाव तँ हमरो छल, परञ्च संजय हुनका पसंद करैत छलाह।

हमरा हुनकर चुलबुलापन नीक लगैत छल।

03.02.2009

                 आई एम सॉरी...आई एम सॉरी


 

राति केँ साढ़े आठ बाजि रहल छै। हम जे ब्लॉक मे छत पर ओछान कs केँँ सुतै लेल प्रयासरत छलहुँ। बगल मे एकटा ड्रायवर छथि। हम दुनू गोटे नेपाल मे माओवादी विषय पर विचार कs रहल छी। माओवादी नेपालक लेल नीक छियैय वा नहि ओ तs भविष्य तय करतै। ओही बीच हमर फोनक रिंग टोन बाजल। हम फोन उठौलहुँ । ओनs सँ आवाज़ आयल, - " आई एम सॉरी... आई एम सॉरी."

    कनेक देर हम विस्मित भेलहुँ। ओ फेर बजलीहि, " हमे माफ नहि करोगे।" हम बुझैत छेलियै- हमर परेम सच्चा परेम छल। हम जवाब देलियैन्ह, - "इट्स ओके। हमने कब का तुम्हें माफ कर दिया है।" ओनs सँ ओ फोन काटि देलीह।

25.07.2010

                 सेकेण्ड डिविजन

आइ बीए के फैनल रिजल्ट निकललैए। चारिटा विद्यार्थी पास भेल छै। हमर तेसर नंबर अछि -'सेकेण्ड डिविजन 50.5℅' । अइ रिजल्टक पाँछाक कारण छल - पहिल गरीबी, दोसर परिवारक उच्च शिक्षाक बैकग्राउंड नहि, तेसर नमहर परिवार, चारिम परिवारक कलह, पाँचम समाजक गिरल मानसिकता आओर अंतिम लल्ली संग परेम आओर धोखा। 

राति केँँ नौकरी आओर दिन केँ जामिया। असंतुलित जिनगी अछि हमर। पढ़ि कs किछु नीक करी से विचार अछि। जेएनयू केँ एंट्रेंस कतेक बेर देलियै, परञ्च हम गांधीवादी लोक आओर ओ मार्क्सवादी विचारधाराक संस्थान, तैं एंट्रैंस क्लीयर नहि भेल। जामिया मे बीएड मे दाखिला लेलहुँ अछि।

12.12.2010 

              दरियागंज बाया जामा-मस्जिद, दिल्ली

आइ 'पहिल लेसन प्लान' नवाब पटौदी मध्य विद्यालय , दरियागंज मे डिलिवर केलहुँ अछि। हमरा हेड बना कs जामिया अइ इस्कूल भेजने अछि।  हेड केँ कुर्सी केँ सम्मान दैत हम 'लेसन प्लान' डिलिवर कs रहल छी। आइ अली मुहम्मद सर हिंदी केँ क्लास मे हमरा सुपरवाइज केलाथि। इ पच्चीस नंबर केँ लेसन प्लान छल। ओ कतेक नंबर देलथिन्ह हमरा नहि पता।

त्रिवेणी एकटा दृष्टि बाधित विकलांग छेलाथि। हुनकर जिनगी केँ गाड़ी अली मुहम्मद सर पटरी पर सँ उतारि देलथिन्ह। हम सभ कतेक प्रयास केलियैन्ह जे ओ लेसन प्लान डिलिवर कs सकैत, परञ्च अली मुहम्मद सर सँ ओ ततेक ने डरा गेलाह जे ओ जामिया छोड़ि देलथिन्ह। इ छियैय लोकतांत्रिक देश मे निसाफ। 

04.06.2011

                   नो  डिक्टेटरशिप

विदेशक बैंक मे ब्लैकमनी केँ जमा केनिहार आओर सरकार केँ आँखि खोलै लेल पूरा देश केँ यात्रा करैत एवं जनसमर्थन जुटबैत योग गुरु स्वामी रामदेव बाबा रामलीला मैदान, दिल्ली मे अन्नशन शुरू केलाथि। इंदिरा गांधी एयरपोर्ट पर हुनका मनमोहन सरकार केँ पैघ मंत्री प्रणव मुखर्जी, पी चिदंबरम आओर कपिल सिब्बल अन्नशन नहि करै लेल मनवै केँ प्रयास केलथिन्ह। परञ्च बाबा रामदेव आइ अन्नशन पर बैठ गेलाह। 

कानून मंत्री कपिल सिब्बल बाबा रामदेव केँ सहयोगी बालकृष्ण केँ दस्तखत केलहा एकटा चिट्टी मीडिया केँ देखौलकीहिन जाहि मे एक दिन योग लेल परमिशन भेटल छेलैन्ह। राति मे करीब बारह बजे गृह मंत्री केँ आदेश सँ आइ पुलिस केँ लाठी चार्ज होम लगलै। पुलिस केँँ लाठी सँ अपनाआप केँ बचेवाक लेल ओ मंच पर सँ नीचा कुदलाहा। दोसर दिन उत्तराखण्ड मे सलवार-सूट मे मीडिया केँ समक्ष देखेलाहा। बाबा रामदेव के भक्त राजबाला बाबा केँ बचेवाक क्रम मे घायल भेलीह आओर अपन प्राण त्याग देलथिन्ह। 

वतन केँ टाका दोसर देश मे नुकौल गेल उचित नहि छियैय। कियो अइ लेल बाजैत छथि, तँ अहाँ लाठी मारबै से लोकतंत्र छियैय डिक्टेटरशिप नहि। हिटलरशाही नहि चलतन्हि अइ देश मे।

31.08.2011

                    मैं अन्ना हूँ

    इ रामलीला केर मैदान छियैए। नयी दिल्ली रेलवे स्टेशन, दरियागंज, दिल्ली गेट वगैरह नजदीके मे छै।कमला मार्किट केँ ठीक बगल मे इ मैदान छै। दशहरा मे रामलीला केँ मंचनक लेल इ मैदान जानल जाएत छै, परञ्च राजनीतिक पार्टी अपन रैली लेल अतs अबैत छथि। 

16 अगस्त केँ दिल्ली पुलिस केँ स्पेशल सेल मयूर विहार सँ अन्ना हजारे, मनीष सिसोदिया, अरविन्द केजरीवाल केँ विहंसरे गिरफ्तार कs तिहाड़ जेल भेज देलथिहीन। जनलोकपाल आओर भ्रष्टाचार केँ खिलाफ़ इ  आंदोलन केँ समर्थन पूरा देश सँ मिललन्हि। 

हम 19 अगस्त केँ  'मैं अन्ना हूँ' वाला टोपी पहिर कs रामलीला मैदान पहुँच गेलहुँ। इ आंदोलन सड़क सँ शुरू भेल छै। पूरा देश मे जनता सड़क पर छै। गरीब-गुरबा, मजदूर, सिनेस्टार सभ कियो अइ आंदोलन केँ समर्थन देलथिन्ह। पहिल मउगी आईपीएस किरण वेदी  मंच सँ तिरंगा झंडा फहरबैत छलीह। 

( 'लव यू टू' डायरी केर बाकी अंश अगिला खेप मे )

 
 

ऐ रचनापर अपन मंतव्य editorial.staff.videha@gmail.com पर पठाउ।