logo   

वि दे ह 

प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका

मानुषीमिह संस्कृताम्

ISSN 2229-547X VIDEHA

विदेह नूतन अंक  

 विदेह

मैथिली साहित्य आन्दोलन

Home ]

 

India Flag Nepal Flag

(c)२००४-२०२१.सर्वाधिकार लेखकाधीन आ जतए लेखकक नाम नहि अछि ततए संपादकाधीन।

 

वि  दे  ह विदेह Videha বিদেহ http://www.videha.co.in  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका Videha Ist Maithili Fortnightly e Magazine  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका  नव अंक देखबाक लेल पृष्ठ सभकेँ रिफ्रेश कए देखू।

 

मुन्नी कामत

दू टा बीहनि कथा

सिया

 -माय गे  एक दिन तोरा हम चान पँ ल' जेबौ... 

- हँ.. हँ... आय बड़ स्नेह झड़ै  छै बाज की चाही.....

- माय गे हम सेना मे भर्ती लेल एनडीए के फार्म भरए चाहिए चियैय  तू बाबू के कहीं न..... 

( सिया के बात बिंदेसर सुनैत  गदगद मन सँ बाजल) 

- सिया तू अपन  पढ़ाई सँ  समाज में हमर प्रतिष्ठा ऊँच केलअं .... 

हम अहाँक अहिं सपना के पैंख देव...

 

दरेग

 

- कक्का ई ककरा बियैह आनलहक.... न पैर सँ चट्टी उतरैं छै आ न कोड़ा स' बेटी.... हूं.... अकरो पोसअ आ अकर  बेटियों क'... ( सिलिया  दोती  बियाहल जोड़ी के देख तनतनैत  बाजल) 

- गे सिलिया ऐना किया जहर बोकरै छ', बेचारी के घाव अखन ताजा छै किया खोरचै  '....? 

तोहर चाची के मुईला कि हम बउआ के छोइर  दोसर बियाह करी.... नै न...! 

' फेर ई कोना अपन बेटी के छोड़थिन.... अपन मनक भाप ठंडा कर आ  हिन्द चाचीये जेका आदर- सम्मान कर। 

शंकर के बात सुईन फुलिया के दुनू आँईख सँ लोड़ टघैर गेल....

 

मुन्नी कामत

 

अपन मंतव्य editorial.staff.videha@gmail.com पर पठाउ।