logo   

वि दे ह 

प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका

मानुषीमिह संस्कृताम्

ISSN 2229-547X VIDEHA

विदेह नूतन अंक

 विदेह

मैथिली साहित्य आन्दोलन

Home ]

 

India Flag Nepal Flag

(c)२००४-२०२१.सर्वाधिकार लेखकाधीन आ जतए लेखकक नाम नहि अछि ततए संपादकाधीन।

 

वि  दे  ह विदेह Videha বিদেহ http://www.videha.co.in  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका Videha Ist Maithili Fortnightly e Magazine  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका  नव अंक देखबाक लेल पृष्ठ सभकेँ रिफ्रेश कए देखू।

 

चंदना दत्त

रौद(बीहनि कथा)

भोरूका इस्कुल सं झटकल ' घुरैत रहि। तखन मोन पडल माताजी  कहने रहथि एकजोड लहठी  नेने

अबय लेल,

भोरे नैहर जेबाक छलनि

से मामी लेल।

 

हम सविता चुडी केन्द्र पर ठमकलहु। 

सविता माय नजरि नहि आयल ,तहियो घमायल रही से पंखा के हवा लगबय लगलहु। 

ता हो हपसैत आयल।

कतय छलौ यय, एकजोड लहठी दिय कनि दामी, बड कडगर रौद अछि आय।

दीदीआय गाडी ' नहि एल खिन्ह,भैयजी,

कि कहियन्ह तगादा मे गेल छली।

सौदा ले जाएत पाय दय घड़ी 

दाँत निपोरै लागत सब।

आब हम कोनो धन्ना सेठ जी, जे तगादा नहि करू?

हम ओकर दुख बुझलहु, गामघरमे दोकानदारी कोनो हंसी खेल नहि,

मुदा छलय सबितियामाए बड उएहगर,

छोटछिन दोकान सिलाई फराय

 से हो लैत छल ,बचिया सबके सिलाई सीखेबो करैत छल।

चुडी देखबय लागल  तातक  एकेटा जनानी आबि गेल दोकान पर ,

'हे अहां बलु सिलाई हमरा नहिये सीखा देलि जे किने से।'

 

मोन रौदायल छलै ओकर ,

 लोहैछकबाजल ,

हम ऐहेन काज करय छी

आय यय ,सबजे सीखिये लेत हमर कसटम्मर के हैत?

 

-चंदना दत्त, रान्टी, मधुबनी

 

अपन मंतव्य editorial.staff.videha@gmail.com पर पठाउ।