logo   

वि दे ह 

प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका

मानुषीमिह संस्कृताम्

ISSN 2229-547X VIDEHA

विदेह नूतन अंक  

 विदेह

मैथिली साहित्य आन्दोलन

Home ]

 

India Flag Nepal Flag

(c)२००४-२०२१.सर्वाधिकार लेखकाधीन आ जतए लेखकक नाम नहि अछि ततए संपादकाधीन।

 

वि  दे  ह विदेह Videha বিদেহ http://www.videha.co.in  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका Videha Ist Maithili Fortnightly e Magazine  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका  नव अंक देखबाक लेल पृष्ठ सभकेँ रिफ्रेश कए देखू।

 

शेफालिका वर्मा

हँ एहनो होयत छैक 

 

 

सासु पुतहुक ताना तानी सं परेश हरदम तनाव में रहैत छल।  . घर मे कोनो काज मे गड़बड़ तँ मायक माथे नीक काजक श्रेय रीना अपना पर।  माय दुखी त' रहिते छलीह परञ्च मौन मूक बेसी रह लगलीह। 

 रीना अपन नैहर में अपन माय के जे देखने छलीह  से  हुनको बाल मन में सासुरक रूप एहने बसल छल। 

 

 

एकटा बात सुनैत छी  ?----पतिक प्रेमपूर्ण स्वर सुनि 

--बाजू ने की कहैत छी! 

चाह बना रहल छी! 

माय मंदिर गेल छलीह --चाहक दुनू कप ल' रीना डाइनिंग टेबुल पर बैसैत कहू की कहै छी! 

अपना सभ ब्याह मे अग्निक सोझा किरिया खेने छलौं -- अपना सब एक दोसराक सुख दुःख में संग रहब , एक दोसराक सहगामिनी रहब ! 

---हं हं हमरा मन अछि --से अचक्के अहाँक किएक मन पड़ल

हम सोचैत छी जे हम कतेको ठाम चुकि जायत छी --अहाँ जाहि ढंग सं हमर माय सं गप्प करैत छी , ओहिना त' हमरो अहाँक माय सं गप्प करवाक चाही -- 

--की एहनो होयत छैक --परेश ओकर कान्ह  दबवैत बाजल ---हं रीना एहनो होयत छैक ,,,,,

 

A 103, सिग्नेचर व्यू अपार्टमेंट्स 

डॉ मुखर्जी नगर , दिल्ली 110009, M, 9311661847

 

अपन मंतव्य editorial.staff.videha@gmail.com पर पठाउ।