logo logo  

वि दे ह 

प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका

मानुषीमिह संस्कृताम्

ISSN 2229-547X VIDEHA

विदेह नूतन अंक पद्य

विदेह

मैथिली साहित्य आन्दोलन

Home ]

India Flag Nepal Flag

(c)२००४-१७. सर्वाधिकार लेखकाधीन आ जतय लेखकक नाम नहि अछि ततय संपादकाधीन।

 

 

वि  दे  ह विदेह Videha বিদেহ http://www.videha.co.in  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका Videha Ist Maithili Fortnightly e Magazine  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका नव अंक देखबाक लेल पृष्ठ सभकेँ रिफ्रेश कए देखू। Always refresh the pages for viewing new issue of VIDEHA.

 

राजीव रंजन झा- १. फगुआ (मुक्तक) २. गजल आ ३. जोगीरा

१.फगुआ (मुक्तक)
>
> फगुआ केर एहि पावन अवसर
> आबू भाल गुलाल मली
>
> आबू प्रेमक एहि अवसर पर
> रंग एक दोसरक‌ गाल मली
>
> आबू सभ केओ मिलिजुलि केँ
> बढा ली निज हिय केर धड़कन
>
> आबू सभ केओ सजा ली अप्पन
> सात रंग सँ उर उपवन
>
> आबू एहि बासंती क्षण मे
> बढा ली किछु मन केर सिहरन
>
> आबू गरा मिली सभ मिलिजुलि
> बिसरि द्वेष जौँ राखल मन
>
> बरसय खुशी अपार अहाँ पर
> फूलय नित्तहि हर्ष सुमन
>
> सातो रंगक सपना अहाँ केर
> हुअ' सजीव प्रतिपल प्रतिक्षण

>               २. गजल

> ककरो होअ सरकार यौ
> हमरा कोन दरकार यौ
>
> भोटक भीख देल जकरा
> भेलय वैह चिन्हार  यौ
>
> करतै किएक चिंता हमर
> एकरो इएह बेपार यौ
>
> ठकलक बेर बेर हमरा
> धूनै छी हम कपार यौ
>
> कैंचा जैह खरचत तकर
> करबै भाइ जयकार यौ
>
> सभटा गढल एक साँच मे
> सभटा एक्कहि भजार यौ
>
> लुटतै फेर वैह करोड़,  तेँ
> झीटय छी हम हजार यौ
>
> ककरो भोट देब करतै
> नेता भ्रष्ट आचार यौ
>
> ककरो पर भरोसा करब
> भेलै आइ बेकार यौ
>
> सबहक पार पायब अहाँ 
> नेताजीक नहि पार यौ
>
> गिरगिट सन बदलताह ई
> झुट्ठा केर सरदार यौ
>
> बाबू कहथि एक बेर ओ
> करियौ फेर सतकार यौ
>
> पाँचो बरख दर्शन कहाँ
> देतय फेर ई यार यौ
>
> फेरो इएह करबे करत
> एहने भाइ आचार यौ
>
> हमहूँ आइए ठनलहुँ अछि
> टनबै सत्तरि हजार यौ
>
> चीन्हू अप्पन प्रतिनिधि के
> घेरू बीच बाजार यौ
>
> अप्पन यैह अधिकार छै
> बैसू आब तैयार यौ
>
> चोरिक माल जौं दैछ ओ
> करु नहि आब विचार यौ
>
> ओकर बात सुनियौ कनी
> करियौ जैह  नेयार यौ
>
> देखू छोट जेकर उदर
> मतक दियौक आधार यौ
>
> राजिव अपन संधानि लिय
> जनतंत्रक  हथियार यौ
>
>            ३.जोगीर
>
> फेंकू भैय्याक हाथ टूटि गेल
> सभा लुटायल खाट
> दर-दर ठोकर खाइत अछि पप्पू
> कुर्त्तो गेलय  फाट...
>
> जोगीरा सारारारा...जोगीरा सारारारा..
>
> मुलायम कठोर भेल 
> चलल चाइल शिवपाल
> बापहि केर बाप निकलल
> नेताजीक  लाल
>
> जोगीरा सारारारा...जोगीरा सारारारा
>
> फेंकू भैया घर-घर बाँटय
> पन्दरह- पन्दरह लाख
> साह बताबय जुमला ओकरा
> तइयो नहि टूटल साख।
>
> जोगीरा सारारारा....जोगीरा सारारारा
>
> अखिलेश भैया सभा बजाबथि
> भाषण करन्हि लुगाइ
> बूढवा बच्चा सबहक डिम्पल
> भ' गेलीह  भौजाइ
>
> जोगीरा सारारारा...जोगीरा सारारारा...
>
> मालामाल फेंकू भैया
> बाँकी सभ कंगाल
> दीदी, बुआ, पप्पू कानय
> खाँसथि खुजलीवाल
>
> जोगीरा सारारारा...जोगीरा सारारारा

-राजीव रंजन झा
    ( जन्म तिथि: 12/01/1980)रर
  ग्राम+पो: भीठ भगवानपुर
  भाया: मधेपुर
  जिला  : मधुबनी (बिहार)
सम्प्रति: उच्च वर्गीय सहायक, भारतीय जीवन बीमा निगम, समस्तीपुर शाखा, समस्तीपुर, बिहार

ऐ रचनापर अपन मंतव्य ggajendra@videha.com पर पठाउ।