logo logo  

वि दे ह 

प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका

मानुषीमिह संस्कृताम्

ISSN 2229-547X VIDEHA

विदेह नूतन अंक पद्य  

विदेह

मैथिली साहित्य आन्दोलन

Home ]

India Flag Nepal Flag

(c)२००४-१७. सर्वाधिकार लेखकाधीन आ जतय लेखकक नाम नहि अछि ततय संपादकाधीन।

 

 वि  दे   विदेह Videha বিদেহ http://www.videha.co.in  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका Videha Ist Maithili Fortnightly e Magazine  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका नव अंक देखबाक लेल पृष्ठ सभकेँ रिफ्रेश कए देखू।

 

                      जगदीश चन्द्र ठाकुर ‘अनिल’

                                 प्रेम - चालीसा

सभ क्यो दुनियामे अपन, कतहु कियो नहि आन

इएह सोचि सदिखन करी, हम सबहक सम्मान |

         ई दुनिया भगवानक दुनिया

         सुरुज तरेगन चानक दुनिया

 

         न’व दृष्टि नव युगकेर दुनिया

         शांत सुखी सतयुगकेर दुनिया

 

         वन पर्वत खग सिन्धु सरोवर

         ई दुनिया सुन्दर-सुन्दर

       

                    भिन्न मुदा सभ दृश्य मनोहर

         स’भ देश सुन्दर-सुन्दर

       

                    पोखरि गाछी बाध रमनगर

         स’भ गाम सुन्दर-सुन्दर

        

                     सुनू पराती. लगनी. सोहर

         सभ लोक सुन्दर-सुन्दर

        

                      प्रेम क्षमा श्रद्धा आ आदर

         सभक सोच सुन्दर-सुन्दर

        

                      कमल फूल सन निर्मल शीतल

         सभक बोल सुन्दर-सुन्दर

        

         जाति आतमा धर्म दिव्यता  

         सभक दृष्टि सुन्दर-सुन्दर

        

         तन-मन-धन सभ सत्यक पथपर

         सभक सृष्टि सुन्दर-सुन्दर

        

         चलय अहर्निश शान्तिक पूजा

         सभक कृत्य सुन्दर-सुन्दर

       

         राग भैरवी ताल भैरवी

         सभक नृत्य सुन्दर-सुन्दर

       

         ह’म आतमा दिव्य आतमा

         ज्योति विन्दु चैतन्य आतमा

        

         ज्ञान प्रेम सुख शान्ति रूप हम

         पवित्रता आनंद शक्ति हम

        

         सहनशीलता अस्त्र हमर अछि

         देह हमर ई वस्त्र हमर अछि

        

         परम धाम केर बासी छी हम

         अजर अमर अविनाशी छी हम

        

         सभले’ शुभ भावना निरंतर

         हमर सोच सुन्दर-सुन्दर

        

         सदा सत्य सुन्दर कल्याणी

         हमर बोल सुन्दर-सुन्दर

        

         सबहक हितमे सदिखन तत्पर

         हम्मर तन सुन्दर-सुन्दर

        

         काम क्रोध मद लोभक बाहर

         हम्मर मन सुन्दर-सुन्दर

        

         सबहक छी हम,सभ छथि हम्मर

         हमर दृष्टि सुन्दर-सुन्दर

       

         हरियर नमहर और ललितगर

         हमर सृष्टि सुन्दर-सुन्दर

        

         धरती आ आकाश रमनगर

         सभक भाग्य सुन्दर-सुन्दर

       

         हम आनंदित सृजनक पथपर

         हमर भाग्य सुन्दर-सुन्दर

 

         हमर पिता पति वन्धु सखा ओ

         परम पिता परमातमा ओ

        

         ज्योति विन्दु करुणासागर ओ

         सकल कला सभ गुण आगर ओ

        

         सदिखन हमरा संग रहै छथि

         सत्य प्रेम आनंद भरै छथि

        

         हम हुनके सभ काज करै छी

         अपना मनपर राज करै छी

        

         सभले’ देखी सुन्दर सपना

         हम सभकें स्वीकार करै छी

        

         हम पूजै छी ध्यानक प्रतिमा

         ज्ञान और विज्ञानक प्रतिमा

        

         अपन शक्तिसं परिचय भेल

         विषय-वासना आ भय गेल

       

         दुखकेर सागर फानि गेलौं हम

         सभ संभव अछि जानि गेलौं हम

        

         शांतिक सीता ताकि एलौं हम

         घ’र घूरिक’ आबि गेलौं हम

        

         लोभक लंका जरा-तराक’

         मन रावणकें डरा-हराक’

        

         पहुंचि गेलौं सुखधाम अपन हम

         स्वयं पवनसुत, राम अपन हम

        

         हम भगवानक शक्ति पबै छी

         दुनियामे सुख-शान्ति बँटै छी

       

         हुनके आशीर्वाद बँटै छी

         आनंदक परसाद बँटै छी

        

         न’व दृष्टि नव सृष्टिक जय हो

         सुख-समृद्धि केर वृष्टिक जय हो

        

         अंध स्वार्थसं मुक्तिक जय हो

         संस्कृति केर भक्तिक जय हो

       

         पवित्रता केर जय हो जय हो

         मानवता केर जय हो जय हो |

ऐ रचनापर अपन मंतव्य ggajendra@videha.com पर पठाउ।