‘ 
logo logo  

वि दे ह 

पथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका

मानुषीमिह संस्कृताम्

ISSN 2229-547X VIDEHA

विदेह नूतन अंक पद्य    

विदेह

मैथिली साहित्य आन्दोलन

Home ]

विदेह नूतन अंक पद्य १

India Flag Nepal Flag

(c)२००४-१७.सर्वाधिकार लेखकाधीन आ जतय लेखकक नाम नहि अछि ततय संपादकाधीन।

 

 वि  दे   विदेह Videha বিদেহ http://www.videha.co.in  विदेह पथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका Videha Ist Maithili Fortnightly e Magazine  विदेह पथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका नव अंक देखबाक लेल पृष्ठ सभकेँ रिफ्रेश कए देखू।

 

आशीष अनचिन्हार

२ टा गजल

1


 

जै ठाँ निबाह नै हेतै

तै ठाँ उछाह नै हेतै


 

रहतै समुद्र नुनगर आ

पोखरि अथाह नै हेतै


 

केना कहू जे किछु रहने

दुनियाँ बताह नै हेतै


 

किछु झूठ लेल मरलो सन

सच तोतराह नै हेतै


 

सभ साधनाक एकै फल

जीवन कँचाह नै हेतै


 

 

सभ पाँतिमे 2212+1222 मात्राक्रम अछि

दोसर शेरक पहिल पाँतिमे एकटा दीर्घकेँ नियम शैथिल्यक कारण लघु मानल गेल अछि


 

 

2


 

छौ तोहर केहन करतूत सखी
 

देखि जो कनी हमर सबूत सखी


 

छै काँचे जौबन काँचे जीबन

नेहो हुनकर काँचे सूत सखी


 

बहुते झुकला टुटलापर लागल

दुनियाँमे किछु नै निजगूत सखी


 

हुनकर घिरना सहि बुझलहुँ जे

हम्मर नेह कते मजबूत सखी


 

नहिए रहलै विश्वासो लायक

अनचिन्हरबा छै अवधूत सखी


 

सभ पाँतिमे 222-222-222 मात्राक्रम अछि

दू टा अलग-अलग लघुकेँ दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि

 

ऐ रचनापर अपन मंतव्य ggajendra@videha.com पर पठाउ।