‘ 
logo logo  

वि दे ह 

पथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका

मानुषीमिह संस्कृताम्

ISSN 2229-547X VIDEHA

विदेह नूतन अंक पद्य    

विदेह

मैथिली साहित्य आन्दोलन

Home ]

विदेह नूतन अंक पद्य १

India Flag Nepal Flag

(c)2004-2018.सर्वाधिकार लेखकाधीन आ जतय लेखकक नाम नहि अछि ततय संपादकाधीन।

 

 वि  दे   विदेह Videha বিদেহ http://www.videha.co.in  विदेह पथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका Videha Ist Maithili Fortnightly e Magazine  विदेह पथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका नव अंक देखबाक लेल पृष्ठ सभकेँ रिफ्रेश कए देखू।

 

अम्बिकेश कुमार मिश्र

२ टा पद्य

सुतारु

बौवा रहलै सुतारु

काटि रहलै अहुरिया

अपन'  स्वार्थक पूर्ति लय'

बिधुआयल आत्मा आ हॅसैत मुँहस'

दबबैतै हाथ-गोर

छातिमे नून आ मुँहमें चिन्नी धरने

वासना, लोभ, घृणा स' भरल'

भजिया रहलै कोनो छाह

उदर-पूर्तिक पश्चात

डकरिक' अनकर सपना आ श्रृंगार

दिनक' इजोत' मे चाटि रहल' अछि

गन्हाइत विष्ठा लागल योनि

चूसै लय तत्पर अछि

मूतस' भरल स्तन

कंठ मोकने वासनाक' भूत

जैव प्रक्रियामे मस्त

हँसि रहलै अपन वीरतापर

दुनियाक सबसॅ पैघ तनाशाहक

सबसॅ दुर्दांत हँसि

गाबि रहलै अपन वीरताक' गीत

सट्टेअन्हरा गेलै स्वार्थी

 

२.

मिथिलाक आह

 

कानि रहल छथि माsए मिथिला

हलधर जननी दुःखमे अबला,

दिन-दुर्दिन हालत छनि खस्ता

अपने पूत न पाबैन रस्ता|

 

कानि रहल छथि अपन व्यथापर

ओंघरा रहली जथा-पथापर,

आँखि नोर लेर मुँह बहकल

रस-रस तुषदह मोनो लहकल|

 

गोचर डाटि पाएर फुलाबैन

मार्कण्डय लह पीठ जराबैन,

बिन काराअंतड़ी छनि सटकल

मुँह पीयर प्रेम बिन लटकल|

 

तन रूचि आई सैकत सन हहरल

वयन मसृण लोल नै ठहरल,

मही पंके आई वारि बिआरी

निशा भेर गाबै छथि नचारी|

 

चार' मकई जकरा लए खोंसल

जकरा उरमे साटिक'  पोसल,

आई  ओबनल आन केर पट्ठा

एकरास'  निक हाथक' लट्ठा|

अम्बिकेश कुमार मिश्र

गा+पोस्ट-सतघरा ,बाबूबरही (मधुबनी)

 

ऐ रचनापर अपन मंतव्य editorial.staff.videha@gmail.com पर पठाउ।