logo logo  

वि दे ह 

प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका

मानुषीमिह संस्कृताम्

ISSN 2229-547X VIDEHA

विदेह नूतन अंक पद्य  

विदेह

मैथिली साहित्य आन्दोलन

Home ]

India Flag Nepal Flag

(c)2004-2018. सर्वाधिकार लेखकाधीन आ जतय लेखकक नाम नहि अछि ततय संपादकाधीन।

 

वि  दे   विदेह Videha বিদেহ http://www.videha.co.in  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका Videha Ist Maithili Fortnightly e Magazine  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका  नव अंक देखबाक लेल पृष्ठ सभकेँ रिफ्रेश कए देखू।

डॉ. शिवकुमार प्रसादक

किछु कविता

 मैथिल

नहि आबैत छनि शंख बजाब

घड़ी घन्टोसँ भेँट नै छनि

पूजा पाठ शास्त्र ज्ञान आओर

पूज्य अपुज्यक धियान नहि छनि।

मैथिल ओ मिथिला केर जिनका

रतियो भरि परवाह ने छनि

मिथिला केर मैथिल ओ कहावैथ

अपनो कूलक मान नहि छनि।  

छोटकी-बड़की

छोटकी जँ बड अगराए

बूझू बाबू छथि पौगराएत।

बड़की सभ दिन चुलही निपए

छोटकी पान तमाखू खाय

हर बरदकेँ करए चाकरी

पनपियाए लऽ खेतो जाय

जो गए बड़की नेना कानउ

छोटकी नित्य सिनेमा जाए

मायक ममता देल हेराए।

 

आइ जेठकी केर बेटा बनि क

सरिपहुँ लिलसा देलक पुराए

अपन माय बेमातर भेलए

बेमातर भेलए अपन माय

जनम जे देलकए गाम ओगरने

बड़की बेटा पाबि मुस्काय। q


 

 

 

घाघस

अथवल सोंच चलय गुड़कुनियाँ

देखनहुँ देखए ने देह

झूठहि मेघ देखावए घाघस

ओहिना करए ओ खेल।

बात करममे मेल कतहु नहि

करए घिनौना मेल

स्वार्थक पाछू अछि बताह ओ

कोना रहत कहु मेल। q


 

 

 

परम्परा

तिमिराच्छादित सकल शुभ चिंतन

डेग डेग गति रोधक

घटाटोप कज्जल बिच कखनहु

कोना मिलत शुभ शोधक

बाट घाट सभ अछि सकबेधल

परम्पराकेँ बोधक

हमहूँ परम्पराकेँ गछारल

ऊँच नीच बिच गोलक।

सभ दिन अहिना मिथिला रहलै

अपन बीच विष घोलक

अपन अपन सभ

पीठ ठोकैत जाऊ

भविष ने किनको छोड़त। q


 

 

 

राग

सुर बिनु राग रूप बिनु रचना

सकल पदारथ अछि कुरचना।

यामिनी गंधा फुलएल भकरार

गमगम गमकय बारिक अँगना।

चम्पा गुलाब फुलल फुलबारी

नाचए वृंतपर पाबि सुरचना।

मैथिल भाषाक सरस सुभाव

तें संसारक बनल अछि गहना।

रागमे बान्हल सोहर समदाऊन

सुख दुख वर्णित मैथिल बयना।

 

ऐ रचनापर अपन मंतव्य editorial.staff.videha@gmail.com पर पठाउ।